Tuesday, September 15, 2009

नक्सली जिन्दगी

फ़िर वही ख़बर राजनांदगांव के मदनवाड़ा में नक्सली (खासकर महिला नक्सलियों ने ) २९थ को एक अफसर सहित सभी पुलिस की हत्या की। इसे शहादत कहा जाए कि बेवकूफी, यह समझ में नही आता? हमारे पुलिस अफसर इतने बेवकूफ हैं यह अभी समझ में आया।
क्या इनको यह भी नही मालूम कि इसके पहले भी कुछ जवानों को चारा बनाकर हमारे कई जवानों को इन्होने मारा था।
एक बच्चे का सामान्य ज्ञान भी इनसे ज्यादा होगा। चतुराई में भी इनसे कई कदम आगे होंगे।
अरे सिर्फ़ भोले भाले लोगों को डरा धमाका कर अपना पोलिसि़त झाड़ने से क्या मतलब? अपनी ही सुरक्षा ख़ुद नही कर पाते तो दूसरी की खाक करोगे?
अब चालिए चलते है दूसरी तरफ इन नक्सलियों को देखते है, जब से पैदा हुई हूँ आज तक समझ में नही आया की इनका मकसद क्या हैं? क्या केवल आतंक फैलाना ही हैं?
अपनों को ही मारते हो? कोई तुमसे खुश हैं? आप सभी की जिन्दगी इतनी सस्ती है? किसके लिए गवां रहे हो समझ से परे है भाइयों।
आपस में एक दूसरे को मारने से क्या हासिल हो रहा है? क्या यह समझ में नही आता की आप सब मोहरे हैं खेल तो कोई और खेल रहा है? जो खुश हो रहा होगा चलो जनसँख्या नियंत्रण का यह भी अच्छा उपाय है।
रेल की पटरी, बिजली टावर नष्ट करना है? तो करो। आपका ही पैसा है मुफ्त में आया है दुबारा तुम्हारा ही पैसा लगा के बनवा दिया जाएगा।
कोई फर्क नही पड़ने वाला बंधू इस तरह से कोई दूसरा रास्ता चुनो कुछ करने के लिए।
जीवन इतनी सस्ती नही की ऐसे गवाओं
कुछ ऐसा करो की ख़ुद पर फक्र हो!

9 comments:

विपिन बिहारी गोयल said...

सीमा पर चीन का खतरा मंडरा रहा है ऐसे में सही नसीहत देती हैं चेतना

Amit K Sagar said...

ब्लोगिंग जगत में आपका स्वागत है. आपको पढ़कर बहुत अच्छा लगा. सार्थक लेखन हेतु शुभकामनाएं. जारी रहें.


---
Till 25-09-09 लेखक / लेखिका के रूप में ज्वाइन [उल्टा तीर] - होने वाली एक क्रान्ति!

A desk of An Artisan said...

ब्लोगिंग जगत में आपका स्वागत है. आपको पढ़कर बहुत अच्छा लगा.

नारदमुनि said...

narayan narayan

चंदन कुमार झा said...

स्वागत है ।

गुलमोहर का फूल

संजय भास्कर said...

बहुत ही सुंदर, भावपूर्ण और प्यारी रचना लिखा है आपने!ahut Barhia...aapka swagat hai...


http://sanjaybhaskar.blogspot.com

SACCHAI said...

" accha laga aapki post padhker "

" aapka swagat hai "

----- EKSACCHAI { AAWAZ }

http://eksacchai.blogspot.com

http://hindimasti4u.blogspot.com

क्रिएटिव मंच said...

आपका स्वागत है
आपको पढ़कर अच्छा लगा
शुभकामनाएं



*********************************
प्रत्येक बुधवार सुबह 9.00 बजे बनिए
चैम्पियन C.M. Quiz में |
प्रत्येक रविवार सुबह 9.00 बजे शामिल
होईये ठहाका एक्सप्रेस में |
प्रत्येक शुक्रवार सुबह 9.00 बजे पढिये
साहित्यिक उत्कृष्ट रचनाएं
*********************************
क्रियेटिव मंच

Roshani said...

आप सभी का बहुत बहुत शुक्रिया