Saturday, January 23, 2010

मनुष्य शाकाहारी या माँसाहारी....?

बहुत समय से मन में यह जिज्ञासा उठती थी.........
मानव का ह्रदय क्यों चित्कार उठता है जीव हत्या देखकर?
क्या माँसाहारी पशुओं में दया, करुणा और प्रेम की भावना होती है?
इन प्रश्नों के कुछ जवाब मुझे प्राप्त हुए।
आप भी जानें मानव, शाकाहारी पशुओं और माँसाहारी पशुओं में अंतर....












*पंजे-
माँसाहारी-इनके पंजे शिकारियों की तरह होते हैं नुकीले धारधार।
शाकाहारी और मनुष्य- इनके पंजे इस प्रकार नहीं होते।

*स्वेद ग्रंथि-
माँसाहारी-इनमें स्वेद ग्रंथि /त्वचा में रोम छिद्र नहीं होते तो ये जीभ के माध्यम से शरीर का तापमान नियंत्रित करते हैं।
शाकाहारी और मनुष्य-इनके शरीर में रोम छिद्र /स्वेद ग्रंथियां उपस्थित होती हैं और ये पसीने के माध्यम से अपने शरीर का तापमान नियंत्रित रखते हैं।

*दाँत-
माँसाहारी- इनमें चिड़फाड़ के लिए नुकीले दाँत होते हैं पर चपटे मोलर दाँत जी चबाने/पिसने के काम आते हैं नहीं होते।
शाकाहारी और मनुष्य- दोनों में तेज नुकीले दाँत नहीं होते जबकि इनमें मोलर दाँत होते हैं।

*आहारनालतंत्र-
माँसाहारी- इनमें Intestinal tract शरीर की लम्बाई के ३ गुनी होती है ताकि पचा हुआ मांस शरीर से जल्द निकल सके।
शाकाहारी और मनुष्य- इनमें Intestinal tract शरीर की लम्बाई के १०-१२ गुनी लम्बी होती है।

*पाचक रस
माँसाहारी- इनमें बहुत ही तेज पाचक रस (HCl- हैड्रोक्लोरिक अम्ल ) होता है जो मांस को पचाने में सहायक है।
शाकाहारी और मनुष्य- इनमें पाचक रस (अम्ल) माँन्साहारियों से २० गुना कमजोर होती है।

*लार ग्रंथि -
माँसाहारी- इनमें भोजन के पाचन के प्रथम चरण के लिए अथवा भोजन को लपटने के लिए आवश्यक लार ग्रंथियों की आवश्यकता नहीं है।
शाकाहारी और मनुष्य- इनमें अनाज व फल के पाचन के प्रथम चरण हेतु मुख में पूर्ण विकसित लार ग्रंथि उपस्थित होते हैं।

*लार-
मांसाहारियों - में अनाज के पाचन के प्रथम चरण में आवश्यक एंजाइम टाइलिन (ptyalin) लार में अनुपस्थित होती है। इनका लार अम्लीय प्रकृति की होती है।
शाकाहारी और मनुष्य- में एंजाइम टाइलिन (ptyalin) लार में उपस्थित होती है व इनका लार क्षारीय प्रकृति की होती है।

यह चार्ट A.D. Andrews, Fit Food for Men, (Chicago: American Hygiene Society, 1970) पर आधारित है।
अधिक जानकारी के लिए कृपया यह site जरूर देखें:-
http://www.celestialhealing.net/physicalveg3.htm
इसके अलावा एक और बात मैंने गौर की है वह है इनके पानी पीने के तरीके....
क्या आपने कभी यह गौर किया है ?
मांसाहारी पशु अपने जीभ से चांट कर पानी /द्रव पीते हैं जबकि शाकाहारी और मनुष्य मुँह से पानी पीते हैं।
इन कुछ उदहारण को देखकर बताइए कि मनुष्य शाकाहारी है या मांसाहारी ?
अपनी अंतरात्मा से पूछिए जवाब जरूर मिलेगा........
यदि एक भी मनुष्य इस लेख को पढ़कर अपने को बदल सके तो यह मनुष्यता की जीत होगी ........

**************

एक महत्वपूर्ण टिपण्णी Creative Manch से -

प्रिय रोशनी जी आपने बहुत सुन्दरता से अपनी पोस्ट तैयार की ! आशा है इस पोस्ट का अपेक्षित प्रभाव पाठकों पर पड़ेगा ! एक बात और भी है जो हम बताना चाहेंगे ! अकसर मांसाहारी लोग स्वाद का गुणगान करते हैं ! जबकि यह बात बेमानी है ! हम जिस तरह शाकाहारी चीजें जैसे- मटर, गोभी, भिन्डी, मूली, प्याज, इत्यादि कच्चा खा सकते हैं, उसी तरह मांस नहीं खा सकते ! क्योंकि मांस का अपना कोई स्वाद नहीं होता ! सारा कमाल सिर्फ मसालों का होता है जो मांस पकाने में प्रयुक्त किया जाता है !

Creative Manch आपका सहृदय आभार....

3 comments:

Roshani said...

I got pictures from googel. so many thanks to google.And thanks to A.D. Andrews whose article helps me lot.

Creative Manch-क्रिएटिव मंच said...

प्रिय रोशनी जी
आपने बहुत सुन्दरता से अपनी पोस्ट तैयार की ! आशा है इस पोस्ट का अपेक्षित प्रभाव पाठकों पर पड़ेगा !

एक बात और भी है जो हम बताना चाहेंगे ! अकसर मांसाहारी लोग स्वाद का गुणगान करते हैं ! जबकि यह बात बेमानी है ! हम जिस तरह शाकाहारी चीजें जैसे- मटर, गोभी, भिन्डी, मूली, प्याज, इत्यादि कच्चा खा सकते हैं, उसी तरह मांस नहीं खा सकते ! क्योंकि मांस का अपना कोई स्वाद नहीं होता ! सारा कमाल सिर्फ मसालों का होता है जो मांस पकाने में प्रयुक्त किया जाता है !

शुभ कामनाएं

नीरज गोस्वामी said...

बहुत ज्ञान वर्धक पोस्ट....आभार आपका इस जानकारी के लिए...
नीरज