Monday, February 11, 2013

"आम के तने व बल्लियों को बनाया लीवर, प्रेशर डालकर पेरते हैं तेल!!!"


टोरा-तेल निकालने चितालुर गाँव के ग्रामीणों ने ने निकाली देसी तकनीक :) 
अपनाई सी- सॉ तकनीक.. 
नेचुरल मोइश्चराइज़र है टोरा....
ऐसे जीरो तकनीक का इस्तेमाल करने वाले हमारे प्राकृतिक (natural) अविष्कारों व आविष्कारकों की सुरक्षा आवश्यक है. ये ऐसे आविष्कारक हैं जिनकी किताब और शिक्षक प्रकृति ही होती है.


यह सुन्दर खबर मैंने देखी हरिभूमि ( दक्षिण बस्तर भूमि ) के, रायपुर, शुक्रवार, ८ फ़रवरी २०१३ के अंक में...वैसे तो अखबार नकारात्मक खबरों से भरी हुई होती है मैं नहीं कहती कि सच्चाई को ना कहा जाये पर सकारात्मक पहलुओं को भी प्रमुखता से प्रकाशित करना चाहिए...
यह खबर अजय श्रीवास्तव, जगदलपुर के नाम से प्रकाशित है. आप खुद पढ़ लीजिए :)




2 comments:

अल्पना वर्मा said...

आवश्यकता ही अविष्कार की जननी है ..रोचक जानकारी.

Roshani said...

धन्यवाद अल्पना दीदी जी :)